सर्वश्रेष्ठ महिला विशेष कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

दरवाज़ा
द्वारा Priya Vachhani

अलार्म की आवाज से नीना चौक कर उठी और झट से अलार्म बंद किया ताकि ललित की नींद खराब हो जाए । धीरे से उठ वह कमरे से बाहर ...

वो भूली दास्तां, भाग-१०
द्वारा Saroj Prajapati

आकाश हॉस्पिटल पहुंचते ही सीधा डॉक्टर के पास गया। उसे देखते ही डॉक्टर ने कहा "आइए आकाश जी मैं आपका ही इंतजार कर रहा था। " "डॉक्टर आज मैं ...

वो भूली दास्तां, भाग-९
द्वारा Saroj Prajapati

जल्दी से सब उसे हॉस्पिटल लेकर पहुंचे। होश आने पर चांदनी ने जब अपने आपको हॉस्पिटल में पाया तो आकाश की ओर प्रश्न भरी नजरों से देखा। तब आकाश ...

बदनाम राखी
द्वारा Singh Srishti

बेहद खूबसूरत लगता है ना रात के वक़्त सफर करना और इन ठंडी हवाओं से ना जाने कितनी बातें करना , इन तारों का जगमगाना और आसमान से चांद ...

द्रोपा भाभी
द्वारा Lovelesh Dutt

“द्रोपा खत्म हो गयी” सुबह आँख खोलते ही माँ ने बताया, “सुबह तीन बजे के करीब खत्म हुई। लोगों की भीड़ लगी है। तुम भी हो आना, मैं तो ...

वो भूली दास्तां, भाग-८
द्वारा Saroj Prajapati

समय पंख लगा बीत रहा था । चांदनी की शादी को चार महीने हो गए थे लेकिन यह चार महीने खुशियों से भरे व उसकी कल्पना से परे थे ...

वो भूली दास्तां, भाग-७
द्वारा Saroj Prajapati

शादी की तारीख तय होते ही दोनों घरों में शादी की तैयारियां होनी शुरू हो गई थी। आकाश की मां के अरमान तो बहुत थे कि उसकी भी बहू ...

लच्छो
द्वारा Lovelesh Dutt

नाम तो लक्ष्मी था उसका, लेकिन ऐसे नाम भाग्यहीनों, गरीबों और अनाथों को शोभा नहीं देते। शायद यही सोचकर पूरा मुहल्ला उसे लक्ष्मी नहीं लच्छो कहता था। उसकी प्रसिद्धि ...

वो भूली दास्तां, भाग-६
द्वारा Saroj Prajapati

आकाश का संदेशा लेकर रश्मि चांदनी के घर गई और जब उसने चांदनी की मां को सारी बातें बताई। सुन उसे अपने कानों पर यकीन ना हुआ कि इतना ...

वो भूली दास्तां,भाग-५
द्वारा Saroj Prajapati

आकाश को जब रश्मि ने चांदनी के दिल का हाल सुनाया तो वह खुश होते हुए बोला "भाभी जी यह खुशखबरी सुनाकर आपने मुझ पर कितना बड़ा  अहसान किया ...

पैडमेन फ़िल्म के बहाने
द्वारा Neelam Kulshreshtha

पैडमेन फ़िल्म के बहाने [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] मुझे लगता है फ़िल्म पैडमेन ने एक सामाजिक क्रांति कर दी है। लोग आज खुलकर स्त्रियों द्वारा मासिक धर्म या माहवारी ...

वो भूली दास्तां, भाग-३
द्वारा Saroj Prajapati

चांदनी की मां उसे खाली हाथ देख बोली " अरे तुम तो आइसक्रीम लेने गई थी। खाली हाथ ही आ गई और यह मुंह क्यों उतरा हुआ है तेरा!" ...

औरतें रोती नहीं - 25 - अंतिम भाग
द्वारा Jayanti Ranganathan

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 25 इस मोड़ से आगे रात जमकर नींद आई। बारह बजे उसे स्टूडियो पहुंचना था। तैयार होने से पहले आंटी का नौकर सतीश ...

वो भूली दास्तां भाग-२
द्वारा Saroj Prajapati

आज रश्मि की शादी थी । शाम होते ही चांदनी ने अपनी मां से कहा "मां मैं रश्मि के घर जा रही हूं । उसे तैयार करवाने पार्लर लेकर ...

कड़क रोटी...
द्वारा सिमरन जयेश्वरी

"उफ़्फ़!!! यार मैं तंग आ चुकी हूं। इस रोटी मेकर को भी आज ही खराब होना था।" किचन में रोटी बना रही अर्चना ने अपने माथे का पसीना पोंछते ...

औरतें रोती नहीं - 24
द्वारा Jayanti Ranganathan

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 24 आमना को ज्यादा देर नहीं लगी अपने को तैयार करने में। देखकर तो आए, इतने बड़े चैनल का ऑडिशन आखिर होता कैसे ...

वो भूली दास्तां, भाग-१
द्वारा Saroj Prajapati

अरे, बिट्टू कब तक सोती रहेगी। 5:00 बज गए हैं शाम के। रश्मि के घर से कई बार तेरे लिए बुलावा आ चुका है। जाना नहीं है उसके मेहंदी ...

औरतें रोती नहीं - 22
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • 101

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 22 अपने घर में किसी दूसरे का घर कुछ इस तरह की जिंदगी रही तीनों औरतों की: सितम्बर 2010 आमना सैयद के लिए ...

मकान नम्बर एक सौ पैंतालीस
द्वारा Satish Sardana Kumar
  • 247

मकान नम्बर एक सौ पैंतालीसकहानीलेखक:सतीश सरदानासुदीप का 1992 मॉडल बजाज चेतक स्कूटर एक किक में स्टार्ट हो गया।कभी-कभी तीन चार किक में भी स्टार्ट नहीं होता।इस बात को शुभ ...

औरतें रोती नहीं - 21
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • (15)
  • 431

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 21 उस रात की सुबह नहीं शायद दुबई से वह इतनी जल्दी न निकलती, अगर उस रात अलीशा उससे मिलने के बजाय अपने ...

औरतें रोती नहीं - 20
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • 434

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 20 आवारा नदी के घाट नहीं होते तीन जिंदगियां: जून 2007 एक उमस भरी दोपहरी को ठंडाने में जुटी थीं वे तीनों। जून ...

औरतें रोती नहीं - 18
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • (14)
  • 537

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 18 ये दाग-दाग अंधेरा सप्ताह भर बाद सुशील एक दिन अचानक सुबह-सुबह घर पर आ धमके। मन्नू उठ चुकी थी। सुशील के चेहरे ...

औरतें रोती नहीं - 19
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • (11)
  • 493

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 19 सुबह कल होगी चरण ने ठीक घर के सामने उतार दिया। मन्नू ने उससे फिर कुछ नहीं कहा, घर तक छोड़ने के ...

सोशल साइट्स
द्वारा Priya Vachhani
  • 177

मोबाइल में मैसेज की टोन बजते ही अनीता का ध्यान मोबाइल की तरफ गया। सामने मधु का मैसेज देख चेहरे पर मुस्कान आ गई। मधु ने "हाय" भेजा था। ...

कलकत्ता ब्यूटी पार्लर
द्वारा Kumar Gourav
  • 576

रामदेव सिंह के बेटी का ब्याह है। दू फेरा से प्रधान हैं सरकारी इंजीनियर दामाद उतारे हैं । एकदम पैसा से बोझ दिए हैं। कौन एक नंबर के पैसा ...

नूरीन - 6 - अंतिम भाग
द्वारा Pradeep Shrivastava
  • (23)
  • 466

नूरीन - प्रदीप श्रीवास्तव भाग 6 अम्मी तुमने मेरे सामने इसके अलावा कोई रास्ता नहीं छोड़ा है। इसलिए जा रही हूं। हो सके तो गुनाहों से तौबा कर लेना। ...

औरतें रोती नहीं - 17
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • (12)
  • 484

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 17 मन्नू की जिंदगी का का-पुरुष फरवरी 2007 मीटिंग लंबी चली। महिला कल्याण विभाग की मीटिंग जल्दी खत्म हो सकती थी भला? मन्नू ...

औरतें रोती नहीं - 16
द्वारा Jayanti Ranganathan
  • (13)
  • 486

औरतें रोती नहीं जयंती रंगनाथन Chapter 16 दगाबाज आईना वो दिन, वो शाम... मैं थरथराकर उठ गई। मेरा मोबाइल बज रहा था। थककर रुक गया। दो मिनट बाद मैसेज ...

नूरीन - 5
द्वारा Pradeep Shrivastava
  • (14)
  • 473

नूरीन - प्रदीप श्रीवास्तव भाग 5 अम्मी के दबाव में मैंने जो गुनाह किया है उसकी सजा अल्लाह जो देगा वो तो देगा ही। पुलिस उससे पहले ही हड्डी-पसली ...