सर्वश्रेष्ठ थ्रिलर कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

दह--शत - 24
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --24 “तुम अठ्ठाइस साल पुरानी हो गयी हो तुम इन बातों को क्या समझो? मुझमें सच ही कुछ है।” अभय उनकी भाषा व ...

दह--शत - 23
द्वारा Neelam Kulshreshtha

एपीसोड –२३ शाम को वह साफ़ महसूस कर रही है अभय व उसकी साँसों में तनाव उनके घर में आने के साथ आ घुसा है। वह शाम को बैडरूम ...

दह--शत - 22
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड – 22 “हाँ, जी कविता मैडम को पहचानता हूँ।” दुकानदार समिधा की बात का उत्तर देता है। “उनका मोबाइल बंद है। यदि वह ...

सातवां ब्रेकअप
द्वारा Saroj Prajapati

यह, यह क्या‌ है मधु! यह किसकी शादी का कार्ड है! रोहण उसे खोलते हुए बोला और जैसे ही उसने कार्ड पर मधु और शिवम का नाम पढ़ा। वहीं ...

दह--शत - 21
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड – 21 ऋचा ने पड़ौसिन का स्वागगत किया “मैं ऋचा हूँ। अंदर आइए।” “मैं आपसे माफ़ी माँगने आई हूँ। आपके यहाँ के गृहप्रवेश ...

दह--शत - 20
द्वारा Neelam Kulshreshtha

एपिसोड -२० वह उनके मोबाइल की कम्पनी में जाती है । वहाँ का अधिकारी कहता है, “वॉट’स ए जोक! आप शक्ल से तो पढ़ी लिखी लगती हैं क्या आपको ...

प्रेशर - 1
द्वारा Harsh Bhatt

Presure        ये एक काल्पनिक कथा है, इसमें प्रेशर से आदमी कितने हद तक गिर सकता है ये दर्शाने की कोशिश की है ये पूरे 4 भाग में ...

दह--शत - 19
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड ---19 फ़िज़ियोथैरेपी रूम में समिधा केस पेपर उसके सहायक को दे देती है। वह रजिस्टर में उसका केस नम्बर लिखने लगता है। समिधा ...

दह--शत - 18
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --18 समिधा कविता की हिम्मत देखकर दंग रह गई, “पता तो लग ही गया है ।” “अच्छा!” उसकी आवाज़ का संतुलन वैसा का ...

दह--शत - 17
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड ---17 अस्पताल के बरामदे में रूककर राजुल उत्तर देता है “थोड़ा बुख़ार है ।” “तुम्हारे दादा जी कैसे हैं ?” “उन्हें परसों ‘हार्ट ...

दह--शत - 16
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --16 समिधा जल्दी से बोली, “फ़िल्म का नाम तो मुझे भी याद नहीं आ रहा लेकिन इस फ़िल्म में हेमामालिनी केमिस्ट्री की लेक्चरार ...

दह--शत - 15
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड ---15 इन दिनों मौसम बहुत ख़राब चल रहा है । न बादल खुल के बरसते हैं, न हल्की रिमझिम बंद होती है । ...

दह--शत - 14
द्वारा Neelam Kulshreshtha

एपीसोड ----१४ प्रिंसीपल वी. पी .की आँखें आग उगलने लगीं “आप मेरा ऑफ़र ठुकराकर जा रही हैं शायद आप वी.पी. को जानती नहीं हैं ।” उनकी आँखों में वहशी लाल डोरे ...

दह--शत - 13
द्वारा Neelam Kulshreshtha

एपीसोड ----१3 “मैं लिलहारी शब्द का अर्थ बतातीं हूँ .हाथ पैर या शरीर के किसी भी अंग पर गोदना गोदने वाली को लिलहारी कहा जाता है । इस नृत्य ...

दह--शत - 12
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --12 जब उम्र ढ़लान की तरफ बढ़ती है तो बहुत कुछ पीछे छूटता चला जाता है । पहले जैसी ऊर्जा, संग साथ के ...

दह--शत - 11
द्वारा Neelam Kulshreshtha

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --11 “हाँ, बाई अपने आउटहाउस में दशामाँ की पूजा करती है । चलिए उस खिड़की से देखें ।” शुभ्रा और वे उठकर खिड़की ...

दह--शत - 9
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 216

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --- 9 समिधा हंस पड़ती है कि रोली में भी अक्ल आ गई है। कैसे पूछ रही है कि विकेश का बेटा इतना ...

दह--शत - 8
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 312

एपीसोड --- ८ कविता रोली की दिनचर्या के बारे में सुनकर अपनी काजल भरी आँखें व्यंग से नचाकर कहती है, “बिचारी कितनी मेहनत कर रही हैं यदि किसी छोटे ...

दह--शत - 7
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 379

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड -7 विकेश अपने उसी ढीठ अंदाज़ में उसके दरवाज़े आ खड़ा हुआ था, “भाभीजी मैं ऑफ़िस से सीधा चला आ रहा हूँ । ...

दह--शत - 6
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 350

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --6 इधर जबसे कविता के रिश्तेदार को ट्रांसफ़र के कारण शहर छोड़ना पड़ता है। कविता उसके पीछे पड़ी रहती है, “ आपका भी ...

दह--शत - 5
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 410

एपीसोड ---५ महिला समिति की तरफ़ से कभी बच्चों के शेल्टर होम जाना हो या अस्पताल में सामान बाँटने समिधा कविता को बुला लेती है, बिचारी घर में पड़ी-पड़ी ...

दह--शत - 4
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 254

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड -4 एक दिन अनुभा नहाकर सूर्यमंत्र पढ़ते हुए सूरज को जल चढ़ा रही है केवल अपने आउटहाऊस के दरवाज़े पर खड़ा बहुत ध्यान ...

दह--शत - 3
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 402

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड --3 अभय के समझ में नहीं आया कि समिधा कविता पर क्यों गुस्सा हो रही है ? उसने कमीज़ के बटन खोलते हुये ...

दह--शत - 2
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 415

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड -2 समिधा ने समिधा इतवार को दरवाज़ा खोला, देखा कविता हाथ में रुमाल से ढकी प्लेट लिए खड़ी है, सुन्दर साड़ी में ऊपर ...

BABY - 2 - 3
द्वारा Dhruv oza
  • 198

Screening 3(पाकिस्तान का एक गाँव - मंजीत)खुदाबक्श - अरे रहीम,(चिल्लाके) ओ रहीम यहां आना ।रहीम - जी भाईजान , बताईये क्या हुआ ।खुदाबक्श - अरे में ये पूछ रहा ...

दह--शत - 1
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 1k

दह--शत [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] एपीसोड -1 जैसे ही नीता व अनुभा ने बड़े गेट से अंदर जाकर कालीननुमा लॉन के बीच के बने दोनों तरफ़ गमलों से सजी ...

साइबर क्राइम - 6 - अंतिम भाग
द्वारा r k lal
  • 521

साइबर क्राइम– भाग छः आर० के ० लाल कुछ दिनों में हम तैयार थे बदला लेने के लिए। एक शाम हम दोनों ने एक पार्टी के बहाने उन्हें एक ...

होप इस हेल - 6
द्वारा kuldeep vaghela
  • 177

होप इज हेलएपिसोड ६रिकेपराधिका अपने सैर्सीस से ये बात पता कर लेती है कि डॉक्टर मेनन इतनी रातको लेब में गए थे।। जुली विहान को कॉल करके वेक्सीन लेने ...

उसका क्या कसूर था
द्वारा Saroj Prajapati
  • 549

आखिर जिसका डर था वही हुआ। सुबह लोगों की आंख पुलिस जिप्सी के सायरन से खुली। आवाज सुनकर लोग घरों से बाहर निकले तो पता चला रामलाल व उसकी ...