सर्वश्रेष्ठ क्लासिक कहानियां कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

हर बार वो
द्वारा Afzal Malla

हर बार वो (कहानी नही है ये है सच्चाई)हर बार वो पल्लू क्यों संभालेतुम कभी अपनी नजरे संभाल लोहर बार वोही घर क्यों संभालेकभी तुम हाथ बटा लिया कारोहर ...

बच्चों की कहानियाँ कैसी हों
द्वारा r k lal

बच्चों की कहानियाँ कैसी हों आर 0 के0 लाल                                       मुझे अगर कोई कठिन काम लगता था  तो वह बच्चों को  कहानी सुनाना था। मैं बड़ा ...

First - एक अनोखा रक्षाबंधन
द्वारा Vishal

कहानी शुरू होता है छोटे से बच्चे से जिसकी उम्र लगभग 7-8 साल का है,और वो घर में अकेले टीवी पर कार्टून देख रहा है और वो अपनी दुनिया ...

इच्छापूर्ति
द्वारा Monty Khandelwal

एक शहर था जहां पर बहुत ही अमीर  व्यक्ति रहता था जिसके पास खूब सारी गाड़ियां बंगले और कई फैक्ट्रिया थी हर तरह से वह धनवान था ना किसी ...

मौत की छलांग
द्वारा Rohit Kumar Singh

टोनी ने जब से दुनिया देखनी शुरु की थी,उसने खुद को मीना बाज़ार मे ही पाया था,उसकी आंखे उस माहौल मे खुली थी,जहाँ की राते रंगीन और दिन की ...

ऑनलाइन क्लास की टेंशन
द्वारा r k lal
  • (12)
  • 419

ऑनलाइन क्लास की टेंशन आर ० के ० लाल                       अनु और मौली दो सगी बहने लखनऊ के दिल्ली पब्लिक स्कूल में पढ़ती हैं। अनु कक्षा तीन ...

वह सब जो मैंने कहा
द्वारा VIRENDER VEER MEHTA
  • 242

                     आज 'लोकल' में भीड़ नहीं थी। ऐसा कम ही होता है, मेरे आस पास भी केवल तीन लोग ही ...

एडल्ट के लिए सीख
द्वारा r k lal
  • (11)
  • 546

एडल्ट के लिए सीख आर 0 के 0 लाल                     चारों  दोस्त रमन, सुंदर, भूपत और रामबाबू एक बड़े होटल में डिनर पर बहुत दिनों के बाद आज ...

गुमनाम रचनाकार-भूपेन्द्र डोंगरियाल की कहानियाँ - 4
द्वारा Bhupendra Dongriyal
  • 133

        कोरोना वायरस रोग जो अब कोविड-19 के नाम से जाना जाता है को अस्तित्व में आए हुए छः माह से भी अधिक समय बीत गया ...

एटिकेट्स
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 734

किसी की समझ में नहीं आया कि आख़िर हुआ क्या? आवाज़ें  सुन कर झांकने सब चले आए। करण गुस्से से तमतमाया हुआ खड़ा था। उसने आंगन में खड़ी सायकिल ...

बाली का बेटा (21)
द्वारा राज बोहरे
  • 225

21                                                           ...

बाली का बेटा (20)
द्वारा राज बोहरे
  • 202

20                                                        बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लड़ाई     अगले दिन सुबह अंग

बाली का बेटा (19)
द्वारा राज बोहरे
  • 215

19                                                             बाली का बेटा                                                               बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे     लंका में अंगद     राम

पागल-ए-इश्क़ (पार्ट -3)
द्वारा Deepak Bundela Moulik
  • 204

डूब कर तेरी तन्हाइयों में मुझें मर जानें दो.. !तिरे इश्क़ में जो मुझें  सवर जानें दो.. !!रेनू शून्य थी पर मन में कई सबाल उठ रहें थे और ...

बाली का बेटा (18)
द्वारा राज बोहरे
  • 232

18                                                       बाली का ...

जैकगोवर्धन और शेखन एलिज़ाबेथ
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 433

मैं बरामदे में बैठा हुआ अख़बार पढ़ रहा था कि मेरी आठ वर्षीया बेटी दौड़ी दौड़ी आई और बोली- पापा पापा, आप कहते थे न कि सवेरे सवेरे देखा ...

बाली का बेटा (17)
द्वारा राज बोहरे
  • 213

17                                                         बाली ...

बाली का बेटा (16)
द्वारा राज बोहरे
  • 207

16                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   विभीषण से भेंट   हनुमानजी

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)
द्वारा Deepak Bundela Moulik
  • 385

पागल-ए-इश्क़  (पार्ट -2)गाड़ी एयरपोर्ट परिसर मैं तेज गती से आकर रूकती हैं सभी लोग जल्दी जल्दी गाडी से उतरते हैं तभी रोहन अपनी मां से कहता हैं मम्मा आप अंदर ...

बाली का बेटा (15)
द्वारा राज बोहरे
  • 234

15                                                             बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   लंका में हनुमान          

अखिलेश्वर बाबू
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 454

वह सुनसान और उजड़ा हुआ सा इलाका था। करीब से करीब का गांव भी वहां से तीन चार किलोमीटर दूर था। रास्ता,सड़क कहीं कुछ नहीं, झाड़ झंकाड़, धूल धक्कड़, ...

बाली का बेटा (14)
द्वारा राज बोहरे
  • 221

14                                                             बाली का बेटा                                                           बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे हनुमानजी की वापसी   सुबह सूरज

हड़पने की नियत
द्वारा r k lal
  • (25)
  • 624

हड़पने की नियतआर ० के ० लाल            मिलन अपनी मस्ती मे चला जा रहा था तभी अपने फुलवारी में खटिया पर बैठे हुए अजोध्या काका ने उसे आवाज़ दी, जहाँ ...

एक अधूरी शाम - 1
द्वारा Anant Dhish Aman
  • 657

दिन ढलने के कगार पर थी और रात चढने की खुमार पर थी हवा गर्म से नर्म हो रही थी मौसम भी धीरे-धीरे लजीज हो रही थी टहलने का ...

बाली का बेटा (13)
द्वारा राज बोहरे
  • 253

13                                                                 बाली का बेटा                                                                         बाल   उपन्यास                                                                             राजनारायण बोह

पागल-ए-इश्क़ - 1
द्वारा Deepak Bundela Moulik
  • 349

दोस्तों.. नमस्कार.. ?आपके सामने एक फिर प्यार की कहानी के साथ मौजूद हूं... मेरा हमेशा से मकसद यहीं रहा हैं कि प्यार को समझें एक दूसरे की भावनाओं को ...

उत्तराधिकर्मी
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 1.4k

"उत्तराधिकर्मी" (कहानी) - प्रबोध कुमार गोविल आज खाना फ़िर नहीं बना। दोनों अलग - अलग कमरे में हाथ की कोहनी से माथा ढके सरेशाम सोते रहे। सोना तो क्या ...

बाली का बेटा (12)
द्वारा राज बोहरे
  • 2.2k

12                                                         ...

बाली का बेटा (11)
द्वारा राज बोहरे
  • 1.9k

11                                                       बाली का बेटा                                                             बाल   उपन्यास                                                               राजनारायण बोहरे   बाली से लड़ाई   राम ने बानर वीरो