सर्वश्रेष्ठ जीवनी कहानियाँ पढ़ें और PDF में डाउनलोड करें

तेरे शहर के मेरे लोग - 16
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( सोलह )सोशल मीडिया पर अब मेरी सक्रियता कुछ बढ़ने लगी थी। दुनिया के मेले में कई लोग आपकी निगाहों के सामने आते थे, आपके दायरे में आते थे, आपके ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 7
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (7) मेरे लिए मेरे जीवन में आया एक एक व्यक्ति भविष्य के लिए मेरी आँखें खोलता गया फिर चाहे आँखें उससे मिले ...

आलेख - 102 नॉट आउट
द्वारा Shakuntala Sinha

      आलेख - 102 नॉट आउट    हमारे यहाँ कुछ दिनों पहले एक फिल्म आयी थी 102 नॉट आउट  . इस फिल्म में बॉलीवुड के दो महान ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 6
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (6) धीरे धीरे रे मना धीरे सब कुछ होय.......... बताया गया था कि हवाई यात्रा 35 मिनट की होगी। उन 35 मिनटों ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 15
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( पंद्रह )कुछ समय पूर्व मैंने अपने पुत्र की सगाई का ज़िक्र किया था। तो आपको अपनी बहू, यानी उसकी होने वाली पत्नी के बारे में भी बता दूं, कि ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 5
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (5) गहरे पानी पैठ उम्र की बही पर सोलहवें साल ने अंगूठा लगाया । वह उम्र थी बसन्त को जीने की, तारों ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 4
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (4) दुखिया दास कबीर है 30 अप्रैल 1999 बनारस का मणिकर्णिका घाट.... मैं छोटी सी तांबे की लुटिया में एहतियात से सहेजे ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 14
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( चौदह )अचानक दिल का दौरा पड़ने से मेरी पत्नी की मृत्यु विश्वविद्यालय के जिस सभागार में हुई थी उसे विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हीं को, अर्थात अपनी पहली वाइस चांसलर ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 3
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (3) जिन खोजा तिन पाईयाँ सिविल लाइंस के विशाल बंगले को हमें शीघ्र ही छोड़ना पड़ा क्योंकि वहाँ हाईकोर्ट की इमारत बन ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 13
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( तेरह )कभी- कभी ऐसा होता है कि अगर हम अपने बारे में सोचना बंद कर दें तो ज़िन्दगी हमारे बारे में सोचने लग जाती है। ज़िन्दगी कोई अहसान नहीं ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 2
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (2) सातवें -आठवें दशक में जबलपुर संस्कारधानी ही था । वह मेरे स्कूल के शुरुआती दिन थे। मेरे बड़े भाई विजय वर्मा ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 12
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( बारह )मेरा जीवन बदल गया था।मैं अकेलेपन की भंवर में फंस कर कई सालों तक शहर दर शहर घूमता रहा था किन्तु अब परिवार के साथ आ जाने ...

मेरे घर आना ज़िंदगी - 1
द्वारा Santosh Srivastav

मेरे घर आना ज़िंदगी आत्मकथा संतोष श्रीवास्तव (1) ज़िंदगी यूँ हुई बसर तनहा काफिला साथ और सफर तनहा जो घर फूँके आपनो कबीर मेरे जीवन में रचे बसे थे। ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 11
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( ग्यारह )इस नए विश्वविद्यालय का परिसर शहर से कुछ दूर था। हमारे सारे परिजन शहर में ही रहते थे। और इतने सालों बाद अब यहां आकर रहने पर ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 10
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( दस ) मुझे बताया गया कि पार्टी राज्य में चुनाव लड़ना चाहती है और इसकी यथासंभव तैयारी की जाए।मैंने शाम को दो घंटे का समय पार्टी के कार्यालय ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 9
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( नौ )एक दिन मैं अपनी मेज़ पर ताज़ा अाई कुछ पत्रिकाएं पलट रहा था कि मेरे हाथ में "इंडिया टुडे" का नया अंक आया।इसमें एक पूरे पृष्ठ के ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 8
द्वारा Prabodh Kumar Govil

(  आठ )इन्हीं दिनों एक चुनौती मुझे मिली।ज़रूर ये अख़बारों के माध्यम से बनी मेरी छवि को देख कर ही मेरी झोली में अाई होगी।इस चुनौती की बात करूंगा ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 7
द्वारा Prabodh Kumar Govil

वीरेंद्र के अपना कला संस्थान खोल लेने के बाद मैंने अपने संस्थान का भी विधिवत पंजीकरण करवा लिया। संस्था के पंजीकरण के कारण मुझे दो - तीन बार जयपुर ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 6
द्वारा Prabodh Kumar Govil

( छह )  मेरे जीवन में आने वाले इस परिवर्तन का असर मेरे मित्रों, परिजनों और शुभचिंतकों पर क्या पड़ने जा रहा था, ये देखना भी दिलचस्प था। मैं अपनी इक्कीस ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 5
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 269

( पांच )ये छः महीने का समय बहुत उथल - पुथल भरा बीता। मैंने अपने बैंक के केंद्रीय कार्यालय को एक वर्ष की अवैतनिक छुट्टी का आवेदन दिया, किन्तु ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 4
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 305

 ( चार  )जबलपुर में आकर मुझे ये भी पता चला कि हिंदी फ़िल्मों के मशहूर चरित्र अभिनेता प्रेमनाथ यहीं के हैं। उनकी पत्नी फ़िल्म तारिका बीना राय की एक ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 3
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 376

( तीन )एक बात आपको और बतानी पड़ेगी।बड़े व भीड़ - भाड़ वाले शहरों में रहते हुए आपकी इन्द्रियां या तो आपके काबू में रहती हैं या फ़िर अनदेखी ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 2
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 340

( दो )एक बात कुदरती हुई कि मैं जो उखड़ा- उखड़ा सा जीवन- अहसास लेकर मुंबई से रुख़सत हुआ था, वो आहिस्ता- आहिस्ता यहां जमने लगा।न जाने कैसे, मुझे ...

तेरे शहर के मेरे लोग - 1
द्वारा Prabodh Kumar Govil
  • 788

( एक )जबलपुर आते समय मन में ठंडक और बेचैनियों का एक मिला- जुला झुरमुट सा उमड़ रहा था जो मुंबई से ट्रेन में बैठते ही मंद- मंद हवा ...

पूना पलट
द्वारा Neelam Kulshreshtha
  • 651

पूना पलट [ नीलम कुलश्रेष्ठ ] [ टी वी शो ‘बिग बॉस’ की शूटिंग लोनावाला [महाराष्ट्र] में होती है जिसके होस्ट महानायक हैं। इसी शूटिंग की पृष्ठभूमि पर एक ...

प्रखर राष्ट्रवादी क्रांतिकारी व्यक्तित्व के धनी वीर दामोदर सावरकर
द्वारा SURENDRA ARORA
  • 2.4k

प्रखर राष्ट्रवादी क्रांतिकारी व्यक्तित्व के धनी वीर दामोदर सावरकर सुरेन्द्र कुमार अरोड़ा सन 1857 के वीर यौद्धाओं के बलिदान को चाटूकार इतिहासकारों द्वारा ग़दर कहने वालों को आइना दिखाने ...

बहीखाता - 47 - अंतिम भाग
द्वारा Subhash Neerav
  • 637

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 47 मलाल बहुत सारी ख्वाहिशें थी ज़िन्दगी में। जैसे कि गालिब कहता है कि हर ख्वाहिश पे दम निकले। बहुत ...

बहीखाता - 46
द्वारा Subhash Neerav
  • 567

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 46 एक लेखक की मौत चंदन साहब चले गए। कुछ दिन उनके धुंधले-से अक्स दिखते रहे। कभी फोन बजता तो ...

बहीखाता - 45
द्वारा Subhash Neerav
  • 586

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 45 मनहूस ख़बर दिसंबर का महीना था। मैं ज़रा देर से ही उठी। इतनी ठंड में किसका उठने को दिल ...

बहीखाता - 44
द्वारा Subhash Neerav
  • 578

बहीखाता आत्मकथा : देविन्दर कौर अनुवाद : सुभाष नीरव 44 अविश्वास और तलाश चंदन साहब द्वारा घर बेचने पर तो मैंने रोक लगवा दी थी, पर उसके बाद कुछ ...