हिंदी कहानियां मुफ्त में पढ़ें और PDF डाउनलोड करें

मन्नत - A love Story
द्वारा Aman Tekaria
  • 18

प्यार तो मैंने बस फिल्मों और किताबों में ही देखा है रियल लाइफ में यह बस एक ख्वाब है सिर्फ एक सोच है क्योंकि ऐसी दुनिया में सच्चा प्यार मिलना ...

चंद्रकांता - संपूर्ण
द्वारा Devaki Nandan Khatri
  • (51)
  • 628

चंद्रकान्ता हिन्दी के शुरुआती उपन्यासों में है जिसके लेखक देवकीनन्दन खत्री हैं। इसकी रचना १९ वीं सदी के आखिरी में हुई थी। यह उपन्यास अत्यधिक लोकप्रिय हुआ था और ...

घरोंदा और अन्य कहानिया - भाड़ा
द्वारा Prashant Vyawhare
  • 16

! भाड़ा ! मुंबई शहर सबसे बड़ी समस्या घर की है ! इतना बड़ा शहर है और इस वजह कुछ लोग उसमे भी रास्ते निकल लेते है ! आज ...

लहरें (गीतों का संकलन)
द्वारा Rakesh Kumar Pandey Sagar
  • 12

                     गीत-1    "कहूँ क्या प्रिये याद आने लगी हो" नई सुबह आयी, नया है सवेरा, नई टहनियों पर नया ...

अधूरी हवस
द्वारा Balak lakhani
  • (141)
  • 50

   (1)पार्ट प्यार बारे मे कई ग्रंथ लिखे गए, हर ग्रंथ मे प्यार को अलग एंगल से देखा गया, ओर पढ़ने वालो ने भी अपनी अपनी सुहलयत से उसे ...

फिर भी शेष - 1
द्वारा Raj Kamal
  • (23)
  • 14

हिमानी अंदर से दरवाज़ा बंद करना भूल गई थी। जैसे ही नशा टूटा, सुखदेव को हिमानी की देह की तलब लगी तो जा घुसा उसके कमरे में। भयभीत हिरनी—सी ...

शकबू की गुस्ताखियां - 1
द्वारा Pradeep Shrivastava
  • 16

सुबह पढ़ने के लिए पेपर उठाया तो नज़र शहर में एक नए फाइव स्टार होटल के खुलने के विज्ञापन पर ठहर गई। पेपर के पहले पूरे पेज़ पर एक ...

डिटेक्टिव - पार्ट - १
द्वारा Urvil Gor
  • (38)
  • 14

डिटेक्टिव: (पूर्ण रूप से काल्पनिक कहानी) सिटी राजगढ़ शहर में अक्सर अपने सपनों को हकीकत में बदलने की कोशिश में लगे हुए होते है। गांव राम नगर से विजय ...

सच्चे दिल की पुकार
द्वारा Rinkal Raja
  • 104

हमारे इस जहा में कई किषम के लोग है...! जैसे की कोई आलसी है तो कोई अपने काम में चुस्त...! और कोई कपटी है तो कोई प्रमाणिक...! इस जहा में ...

फ्लेट नम्बर ३०१
द्वारा Yashwant Kothari
  • (36)
  • 10

फ्लैट नं. 301 यशवंत कोठारी   सामान्यतया अमर रात को काफी देर से ही अपने फ्लैट में पहुँचता था। कभी-कभी तो सुबह होने के थोड़ी देर पहले ही वह घर में ...

बेवजह...
द्वारा Harshad Molishree
  • 19

बेवजह....भाग १....राजस्थान की जलाने देने वाली गर्मी मैं... एक लड़का जो महज १४ - १५ साल का होगा, सुनसान रास्ते पर लडखडाते हुए चल रहा है, पिघलादेने वाली गर्मी... ...

राजा दाहिर सेन
द्वारा Neelima Kumar
  • (17)
  • 16

The story of Raja Dahir Sen, King of Sindh, who was the first martyr in saving India from invaders. This story is not appearing anywhere either in Indian history ...

अब वो खुश हैं...
द्वारा प्रियंका गुप्ता
  • (26)
  • 6

रसोई में बर्तनों की खटर-पटर से नीला की आँख खुल गई। बगल में रखी अलार्म-घड़ी देखी तो हड़बड़ा कर उठ गई...ओ माँ! आज साढ़े छः बजे तक सोती रह ...

खौफ - 1
द्वारा SABIRKHAN
  • (60)
  • 7

सभी हिंदी पाठकों के लिए एक और कहानी लेकर हाजिर हुं आप सब को यह जरूर पसंद आएगी..!इस कहानी को अपने प्रतिभाओं देना न भूलें..!ठंड से उसका बदन बुरी ...

वो कौन थी..
द्वारा SABIRKHAN
  • (275)
  • 7

  (अपने अंदाज को बरकरार रखते हुये एक और कहानी लेकर हाजिर हुं  )                                 १ मकान हवा उजास वाला और काफी बडा है जिजु..! निगाहने सारे कमरे का मुआयना ...

और,, सिद्धार्थ बैरागी हो गया - 1
द्वारा Meena Pathak
  • (23)
  • 8

पतीली से गिलास में चाय छान कर सबको थमा आई थी पर मुकेश कहीं नहीं दिख रहा था, वह उसको ढूँढ़ती हुई बाहर कोठरी की ओर चल दी, “बाबू ...

माय फर्स्ट किस
द्वारा Yayawargi (Divangi Joshi)
  • (24)
  • 14

डियर डायरी ,       तुजे पता है न तेरी बातुनी याशु ऊटी जाने वाली थी कॉलेज कैंप के लिए! आज तक मैंने तुजे हर राज़ बताए है ओर ...

खिलता है बुरांश ! - 1
द्वारा Kusum Bhatt
  • 49

....आज सांवली शाम का जादू गायब था! वह टहलुई सी चलती रही..., मन का बेड़ा अभी अचानक उठे तूफान के बीच फंसा था...! एक पल को उसके जेहन में ...

अँधेरे में जुगनू - 1
द्वारा Kusum Bhatt
  • 40

घर से निकलते समय उसने एक बार भी नहीं सोचा। तूफान का मुकाबला करने की ताकत नहीं थी उसमें। पति ने मारपीट की- बच्चों के सामने! ग्लानि हुई! रोज़-रोज़ ...

मेरा भाई
द्वारा PAWAN KUMAR
  • 8

मेरा भाई .. कभी कुछ बताने के लिये बहुत कुछ  होता  है  तो  कभी  जितना बताओ ऊतना  काम  हो  जाता है  पर हम किसी  को जानना  नही  छोडते  तोह ...

लाल-सफ़ेद कंगन
द्वारा Madhu Sharma Katiha
  • (15)
  • 14

अलकनंदा आज सुबह से ही उत्साहित थी। कॉलेज की ओर से उसे ‘शिलॉन्ग’ ले जाया जा रहा था। भारत के उत्तर-पूर्वी राज्य मेघालय की खूबसूरत राजधानी है शिलॉन्ग। एक ...

मस्ती
द्वारा Karan Soni
  • (47)
  • 14

मस्ती रविवार सुबह चाय की चुस्कियों के बीच महेश सक्सेना ने पत्नी मीना से पूछा “क्या तुमने कभी प्यार किया है।“ यह सुन कर मीना सन्न रह गई, कि क्या हो ...

द स्योर मैन - पार्ट १
द्वारा Hareesh Kumar Sharma
  • 31

सुमसाम और सुन्दर आशमान में सन्नाटा छाया हुआ था कि अचानक एक बहुत बड़ा स्पेशिप काले बादलों के पीछे से गुजरा और उसकी गति के कारण उसे ठीक से ...

कुचक्
द्वारा Vk Sinha
  • (17)
  • 115

          ? कुचक्र ?  अजय श्रीवास्तव अपनी ही धुन के पक्के पर सरल स्वभाव के एक स्वाभिमानी इंसान थे। परिवार में दो बेटियां इंदू और ...

अत्सर अध्याय १
द्वारा S H WKrishind
  • 32

इस कलयुग में किसी का दिल जीतना तो कठिन है ही, उससे भी ज्यादा कठिन है, किसी पर भरोसा करना पहले तो कोई किसी पर भरोसा करना ...

वैश्या -वृतांत
द्वारा Yashvant Kothari
  • (121)
  • 12

देह व्यापार.विवेचन इनसाइक्लोपेडिया ब्रिटानिका के अनुसार देह व्यापार का अर्थ है मुद्रा या धन या मंहगी वस्तु और षारीरिक सम्बन्धों का विनिमय। इस परिभापा में एक षर्त ये भी ...

मांस
द्वारा Neelam Samnani
  • 17

भरी गर्मी के दिन थे सूरज आग लेकर सर पर खड़ा था पसीना बूंदों की जगह पानी की धार बनकर बह रहा था कहने को आस- पास पानी  बहुत ...

मनचाहा
द्वारा V Dhruva
  • (48)
  • 15

जब से होश संभाला पापा को संघर्ष करते हुए देखा है मैंने। फिर भी मम्मी बिना किसी शिकायत के जिंदगी में साथ दें रहीं हैं। हम नोर्थ दिल्ली में रहते ...

चितकबरे बैंड का रहस्य - 1
द्वारा Sir Arthur Conan Doyle
  • (76)
  • 10

मेरे मित्र शेरलॉक होम्स की कार्य शैली के बारे में लगभग सत्तर पृष्ठ के नोट्स जो मैंने पिछले आठ वर्षों में तैयार किये थे, पर नज़र डालते हुए मैंने ...