मैं क्या हूँ बस एक मुफ़लिस सी शायरा मेरे पास कुछ नहीं मेरे अल्फ़ाज़ के सिवा