कर्तव्य,, Nirpendra Kumar Sharma द्वारा सामाजिक कहानियां में हिंदी पीडीएफ

कर्तव्य,,

Nirpendra Kumar Sharma द्वारा हिंदी सामाजिक कहानियां

बाहर शहनाइयों का शोर, मेहमानों की चहलपहल और शादी की सजावटों के बीच सुरेखा सोच रहीं थी की अब जल्दी ही उनकी बेटी संजना विदा होकर ससुराल चली जायेगी ।बेटी का विवाह करके उनका बहुत बड़ा कर्तव्य पूरा हो ...और पढ़े